अहमदाबाद/राजकोट। ।

अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठन ISIS से कथित तौर पर जुडे तथा गुजरात के एक प्रमुख मंदिर पर आतंकी हमला करने के फिराक में लगे दो भाईयों, जो सौराष्ट्र क्रिकेट संघ (एससीए) से जुडे एक अंपायर के बेटे हैं, को राज्य पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते यानी एटीएस ने शनिवार देर रात राजकोट और भावनगर से गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से करीब 10 देशी बम और कुछ बारूद तथा नकाब और कम्पयूटर आदि बरामद किए गए हैं। 


पुलिस ने रविवार को बताया कि क्रिकेट अंपायर तथा सौराष्ट्र विश्वविद्यालय से हाल में सेवनिवृत्त हुए राजकोट निवासी आरिफ रामोडिया के बडे़ बेटे वसीम को राजकोट से तथा छोटे बेटे नईम को भावनगर से पकडा गया। दोनो की फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया पर गतिविधियों के चलते आईएसआईएस से उनके जुडाव का पता चला तथा वर्ष 2015 से ही उन पर एटीएस नजर रखी जा रही थी। 


नईम ने बैचलर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन यानी बीसीए की पढाई की थी जबकि वसीम अलंग में शिपब्रेकिंग यार्ड से जुडे़ रोजगार में था। दोनों को अहमदाबाद से गई एटीएस की टीमों ने पकड़ा। दोनों से आगे पूछताछ की जा रही है। 


समझा जाता है कि वे प्रसिद्ध चोटिला मंदिर को निशाना बनाना चाहते थे। हाल में वसीम ने इस मंदिर की रेकी भी की थी। ज्ञातव्य है कि गुजरात पुलिस ने शनिवार को ही राजकोट में महाराष्ट्र से आई एक बस से दाउद इब्राहिम गिरोह के चार बदमाशों को पकड़ा था जो जामनगर के एक व्यवसायी की हत्या के लिए आए थे।