भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) के अध्यक्ष हिमंत विश्व शर्मा ने शनिवार को साइना नेहवाल के पिता को राष्ट्रमंडल खेलों में अक्रीडेशन नहीं मिलने पर टूर्नमेंट में न खेलने की धमकी पर किसी भी अनुशासनात्मक कार्रवाई करने से इनकार किया है।



साइना को देश का गौरव बताते हुए शर्मा ने कहा कि यह बात अब खत्म हो चुकी है। बीएआई ने राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों के लिए सम्मान समारोह आयोजित किया था।



कार्यक्रम से अलग शर्मा ने कहा, 'साइना देश का गौरव है। वह काफी विनम्र इंसान हैं और इस तरह की बातें किसी के साथ भी हो सकती हैं। इसे बड़ा मुद्दा नहीं बनाया जाए।'



भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। हालांकि उन्होंने इस मुद्दे पर बोलने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, 'आज इस मुद्दे पर बात नहीं, आज देश के लिए खुशी का दिन है क्योंकि हमारे बैडमिंटन खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से हमें गौरवान्वित किया है।’



इससे पहले बत्रा ने शर्मा के साथ पिछले महीने खत्म हुए राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को नगद पुरस्कार देकर सम्मानित किया।



शर्मा ने साथ ही कहा कि खिलाड़ियों की जितनी भी बकाया राशि है सभी को जल्द देने का वादा किया है। उन्होंने कहा, 'राष्ट्रमंडल खेलों में खिलाड़ियों का प्रदर्शन अच्छा रहा है, लेकिन एशियाई खेलों में राह आसान नहीं होगी। हमें अपनी क्षमताओं पर भरोसा करना होगा और आगे की चुनौतियों के लिए खुद को तैयार करना होगा क्योंकि उन खेलों में चीन, मलयेशिया, दक्षिण कोरिया और जापान जैसे देश भी हिस्सा लेंगे।'